राजस्थान में यातायात के साधन

इस लेख में आप राजस्थान में यातायात के साधन के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी प्राप्त करेंगे क्योंकि इस लेख में राजस्थान के सभी यातायात के साधनों को पूरी तरह से विस्तारित रूप से बताया गया है।

राजस्थान में यातायात

यह लेख आपको राजस्थान में यातायात के साधनों की स्थिति कैसी है यह बताने के लिए लिखा गया है साथ ही राजस्थान में उपस्थित सभी यातायात के साधनों की जानकारी इस लेख में दी गई है।

राजस्थान में यातायात के साधन

राजस्थान रोड विजन 2025

चलिए इस लेख में सबसे पहले हम राजस्थान रोड विजन 2025 के बारे में जानकारी प्राप्त कर लेते हैं।

आप कि राज्य में सड़क तंत्र के कायापलट के लिए सड़कों के विकास में गुणवत्ता को बढ़ाने हेतु तैयार इस दीर्घ अवधि विजन का अनुमानित बजट करीब 9 खरब रुपए है।

इस विजन यानी राजस्थान रोड विजन 2025 के अंतर्गत क्या-क्या मुख्य प्रावधान हैं वह नीचे मैंने बताए हैं।

पहले 15 साल यानी 2015 तक सभी गांवों को सड़कों से जोड़ने के बाद अगले 10 साल में एक्सप्रेसवे फ्लाईओवर व चार लेन के राजकीय राजमार्ग बनाई जाएगी जो 2015 तक बनाई जा चुकी है।

पर्क सड़कों व सड़क तंत्र के रखरखाव को बहुत ज्यादा प्राथमिकता देंगे के लिए धना भाव दूर करने हेतु सड़क विकास को स्वयं मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में उच्च स्तरीय सलाहकार बोर्ड गठित करने का सुझाव भी इसके अंतर्गत दिया गया था।

आपको बता दें कि रखरखाव के कार्यों के लिए वित्तीय धना भाव दूर करने में निजी क्षेत्र की सहायता लेने की सिफारिश करते हुए इसके लिए अपडेट एंड ट्रांसफर पर नारे को प्रोत्साहन दिया गया है।

सभी राज्य राजमार्गों को कम से कम 2 लेन का बनाना प्रस्तावित किया गया है वह राजमार्ग अभियंता प्रशिक्षण संस्थान तथा अनुसंधान विकास निदेशालय भी स्थापित किया गया है।

राजस्थान में सड़के

अभी-अभी ऊपर आपने राजस्थान रोड विजन 2025 को राजस्थान में यातायात के साधन के अंतर्गत पड़ा।

अब आप राजस्थान में सड़क के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त करने जा रहे हैं आपको बता दें कि 31 मार्च 2021 तक सड़कों की कुल लंबाई 272959 किलोमीटर है और 31 मार्च 2021 तक सड़कों का घनत्व 79 पॉइंट 70 किलोमीटर पड़ती 100 वर्ग किलोमीटर है।

साथ ही आप यह भी जानने की दुर्घटनाओं को कम करने के लिए तमिलनाडु मॉडल की तर्ज पर राजस्थान में भी रोड में बनाया गया है।

सड़क दुर्घटनाओं को रोकने हेतु 100 करोड रुपए के सड़क सुरक्षा कोष की स्थापना भी की गई है आपको सड़क सुरक्षा सप्ताह सामान्यतया जनवरी के पहले सप्ताह में राजस्थान में मनाया जाता है।

राजस्थान की राज्य सरकार द्वारा 1994 में सड़क नीति घोषित की गई थी प्रमुख उद्देश्य सड़क क्षेत्र में निजी क्षेत्र की भागीदारी को प्रोत्साहित करना था और सड़क राजस्थान सड़क नीति घोषित करने वाला देश का प्रथम राज्य है।

यह भी आपको पता होना चाहिए राजस्थान में सितंबर 2013 में द्वितीय राज्य सड़क विकास नीति घोषित की गई है।

आपको बता दें कि राज्य सरकार ने निजी निवेशकों से भी ओटी आधार पर आधिकारिक निवेश कराने के लिए 28 अप्रैल 2002 को राजस्थान सड़क विकास अधिनियम 2022 जारी किया गया है।

साथ ही आप यह भी जानने की राजस्थान में सर्वप्रथम 1992 राजकीय बस सेवा प्रारंभ की गई थी राजस्थान में राष्ट्रीय राजमार्ग राज्य राजमार्ग मुख्य जिला सड़के अन्य जिला सदके और ग्रामीण सड़कें हैं।

राजस्थान के रेल मार्ग

चलिए अभी अभी आपने सड़क के बारे में पढ़ा अब हम राजस्थान के यातायात राजस्थान में यातायात के साधन के अंतर्गत रेलवे के बारे में पढ़ लेते हैं।

राजस्थान में रेल मार्ग की कुल लंबाई 5929 किलोमीटर थी जो मार्च 2019 के अंत तक 5 किलो 5000 किलोमीटर 937 किलोमीटर हो गई है 67415 किलोमीटर लंबाई के भारतीय राजमार्ग का कुल 8 या 8:30 प्रतिशत है।

बता दें कि राज्य में प्रति हजार 1 किलोमीटर में राज रेल मार्गों की औसत लंबाई 17000 किलोमीटर है।

हमारे संविधान में संघ सूची यूनियन लिस्ट का क्या है आपको बता दें कि राजस्थान में प्रथम रेल की शुरुआत जयपुर रियासत में आगरा फोर्ट से बांदीकुई के बीच अप्रैल 18 सो 74 में की गई थी।

हैप्पी हैप्पी जलने की पैलेस ऑन व्हील्स यानी पहियों कार्यों पर राज महल यह एक ट्रेन का नाम है जिसका आरंभ 26 जनवरी 1982 को किया गया था।

इस ट्रेन ने वर्ष 2013 का उत्तर पूर्व उत्तर भारत की सर्वश्रेष्ठ लग्जरी ट्रेन का खिताब जीता है इस ट्रेन को राजस्थान पर्यटन विकास निगम लिमिटेड एवं भारतीय रेलवे द्वारा संचालित किया जाता है यह भी आपको पता होना चाहिए।

जयपुर मेट्रो रेल परियोजना

अभी-अभी आपने रेलवे के बारे में पढ़ा चली जयपुर मेट्रो रेल परियोजना के बारे में भी थोड़ी जानकारी प्राप्त कर लेते हैं राधे की 3 जून 2015 को जयपुर देश का छठा शहर बना जहां मेट्रो चलने लगी।

पहरेदारी 5 से हेलो शहरों कोलकाता दिल्ली बेंगलुरु गुड़गांव और मुंबई में मेट्रो चल रही थी जयपुर पहला उत्तर भारतीय शहर है जहां मेट्रो ट्रेन की शुरुआत की गई थी 315 को पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने मानसरोवर भृगु पथ स्थित स्टेशन से मेट्रो ट्रेन के फेज 1a यानी चांदपुर से मानसरोवर तक 9 मेट्रो स्टेशन का शुभारंभ किया था।

जयपुर मेट्रो में झुंझुनू जिले के खेत्री नगर से कुसुम कंवर तथा जयपुर जिले की मोनिका को ट्रेन ऑपरेटर 1 जनवरी 2010 को जयपुर मेट्रो कॉरपोरेशन का गठन किया गया था।

आपको बता दें कि राजस्थान में मेट्रो प्रोजेक्ट को ट्रांसपोर्ट इन्फ्राट्रक्चर फंड से जयपुर मेट्रो रेल परियोजना के लिए डेडिकेटेड फंड बनाया गया है।

जयपुर में मेट्रो रेल परियोजना का कार्य दो चरणों में पूरा होना था।

राजस्थान में वायु परिवहन

अभी-अभी आपने जयपुर मेट्रो रेल परियोजना के बारे में पड़ा जिसके बाद अब हम राजस्थान में यातायात के साधन के अंतर्गत वायु परिवहन के बारे में भी पढ़ लेते हैं।

क्या देखी भारतीय संविधान के अनुसार वायु परिवहन संघ सूची का विषय है 1 अगस्त 1953 को वायु परिवहन का राष्ट्रीयकरण कर दिया गया था।

बता दें कि राष्ट्रीय विमान सेवाओं का संचालन इंडियन एयरलाइंस द्वारा किया जाता है जिसका मुख्यालय नई दिल्ली में है।

समान सेवाओं का संचालन एयर इंडिया कंपनी द्वारा किया जाता था जिसका मुख्यालय मुंबई में है हवाई अड्डे को संचालन के लिए अंतरराष्ट्रीय कोड मिल गया है इसे नाम दिया गया है।

आप यह भी जानने की सांगानेर हवाई अड्डे से प्रथम अंतरराष्ट्रीय उड़ान 7 फरवरी 2002 को दुबई के लिए भरी गई थी।

सनोट हवाई अड्डे को अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का दर्जा 29 दिसंबर 2005 को दिया गया था आपने मुझे ऐसा उम्मीद है कि राजस्थान में यातायात के साधन के विषय में संपूर्ण जानकारी प्राप्त कर ली है।

  1. जयपुर में मेट्रो की शुरुआत कब हुई?

    3 जून 2015 को।

  2. राजस्थान रोड विजन 2025 का अनुमानित बजट कितना था?

    9 खरब रुपए

  3. एयर इंडिया कंपनी का मुख्यालय किस शहर में है?

    मुंबई में।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *